Pyar Mein Gam Bhari Shayari: (Best) 47+ दगाबाज प्यार शायरी

Pyar Mein Gam Bhari Shayari
फ्रेंड्स इस पोस्ट में आपके लिए लेटेस्ट हुए बेहतरीन टूटे दिल की गम भरी शायरी लेकर आये है,  जो आपके दिल की फीलिंग्स लिखी है Pyar Mein Gam Bhari Shayari, बेवफा इश्क़ के लिए हिंदी शायरी, आपके झूठे प्यार के लिए सैड शायरी Dagabaaz Pyar Shayari, pyar me dhoka dard bhari shayari, dard bhari bewafa shayari in hindi for girlfriend.




इस मुस्कुराते चेहरे के पीछे कुछ राज़ भी है
हँसते है चहरे ऊपर से
पर दिल में दबे वो गम आज भी है।
pyar me dhoka dard bhari shayari





थक गए हम यु मोहब्बत के नगमे लिखते लिखते
बड़ी सस्ती हो गयी है जनाब मोहब्बत बिकते बिकते।





तेरे ना होने से थोड़ा  गम है
और इतनी सी कमी है
लाख कोसिस करू मुस्कुराने की
पर आँखों में नमी रहती है।





जब इश्क़ नहीं था किसी से तभी अच्छा था
तू टाइम पास कर रही थी
पर मेरा इश्क़ तो सच्चा था।





शायरी में कुछ तो  ख़ास लिखा है
आज लफ्ज पढ़ रहे है जनाब
हमने जज्बात लिखा है।





मत रोना कभी किसी के छोड़े जाने से,
वक्त लाओ अपना वो खुद मिलने आएगी तुमसे नए बहाने से।





जो लोग आज बोलते है तू कुछ नही कर पायेगा,
 वही कल बोलेंगे मुझे तो पहले से ही पता था
 तू कुछ बड़ा जरूर करेगा।





इतने कमजोर मत बनो की हर कोई आपको आसानी से तोड़ सके,
 इतने मजबूत बनो की आपको तोड़ने वाले खुद टूट जाये।





अब तो जब भी हिचकियाँ आती हैं,
 तो पानी पी लेते हैं,
 क्योंकि अब ये भरोषा नही रहा की तुम हमें याद करते होंगे ।





अगर तुम समझ पाते मेरे चाहत की तन्हाई को,
तो हम तुमसे  नही तू यक़ीनन  हमसे मोहब्बत करती।


वो क्या समझेगी मेरे दर्द को,
जो फिदा है दुनिया के हर मर्द पर।





जब उसे भी कोई ठुकरायेगा,
फिर ये बन्दा बहोत याद आएगा।





वो तो हँसेगी ही मेरे दर्द पर,
क्योकि उसका दिल लगता है सिर्फ पैसो वाले मर्द पर।





पसंद तो कोई किसी को भी कर सकता है,
पर बहुत मुश्किल हित किसी की आदत बन जाना।





सहायता करना ये बहुत महंगी चीज होती है,
सबसे उम्मीद न करे बहुत कम ही लोग होए है
जो दिल के अमीर होते है।





माफ कर देगा खुदा उन्हें जिनकी क़िस्मत ख़राब होगी,
और उन्हें कभी नही छोड़ता जिनकी नियत करब होती है।





तू छोड़ देगी हमें और सोचा हम रह नही पाएंगे,
ये सब ख्वाब है तेरे जो जल्द ही टूट जाएंगे।




DARD BHARI BEWAFA SHAYARI IN HINDI FOR GIRLFRIEND:


चल तू क्या समझएगी हमें मोबब्बत के पाठ को,
जिसमे खेला हो दिलो से, वो क्या समझएगी अपने जज़्बात को।





क्या कोई महफ़िल ऐसी भी है
जहाँ हमरे टूटे दिलों के जज्बात भी सुने जायेंगे। 





मोहब्बत करने का कोई शौक नही है उसे,
पर कमाल का बर्बाद करती है।





ये एक तरफा प्यार भी बहुत अज़ीब होता है,
हमेशा डर लगा रहता है की कोई उन्हें हम से चुरा न ले।





तू समझ न सकी पगली जिसे,
वो गरीब पैसो से जरूर था
मगर उसका दिल करोड़पति था।




PYAR ME GAM BHARI SHAYARI HINDI


टूट कर बिखर जाते है वो लोग,
कच्ची मिटटी के बर्तनो की तरह
जो खुद ज्यादा मोहब्बत में दूसरों पर भरोषा करते है। 





तुम्हारी नाराजगी हक है मगर
मुझे मनाने का मोका तो देती। 





एक बात हमेशा याद रखो,
किसी के सामने गिड़गिड़ाने से न तो इज़्ज़त मिलती है,
और न ही मोहब्बत।





दिल उदाश है मगर लोगों से हँस कर मिलता हु,
ये दुनिया है दोस्त रोने वालों को और रुलाती है। 





हमे सिर्फ वक़्त गुजारने के लिए याद न किया करो,
 अपना भी एक दिल है, और उसमें भी एक फील है।





चलो एक तरफ का ही सही पर हमे तुमसे प्यार है,
 तुम्हे नही तो क्या हुआ,
 फिर भी पाने की आशा बेसुमार है।





प्यार में चहरे हर कोई देखता है,
और जो दिल देखता है उससे ज्यादा खुश नसीब और कोई नही होता।





हाथ जोड़ लेता दोस्त दिल जोड़ने से पहले,
अगर पता होता ये कमबख्त मोहब्बत इतना तड़पती है।




PYAR ME DHOKA DARD BHARI SHAYARI


बेवकूफ है वो जो इस कदर याद करते है,
और प्यार इतना बेसुमार करते है,
 फिर तोड़ कर दिल चली जाती है वो,
फिर खुद तड़पकर बेहाल होते है।





इतनी एहमियत किसी को कभी न दो की,
वो छोड़ कर चली जाए और तुम उसके बगैर रह भी न सको।





हमने कहा ए मोहब्बत के बदल जरा जोर से बरसना,
नफरत के आइनो पर बड़ी धूल बैठी है। 





मै  तुझे भूलने की कोशिश करूँगा,
और तेरा क्या, तुझे तो कोई और मिल ही जायेगा। 





अब तो मोहब्बत भी पैसों से होती है साहेब,
और हम गरीब उसे खरीद न सके। 





जब मिलो किसी से तो जरा दूर का रिश्ता ही रखना,
क्योकि बहुत तङपाते हैँ अक्सर सीने से लगाने वाले। 





हमारा सुख गाने का नहीं है दोस्त,
वो तो दिल की कुछ बातें है जो खुद जुबाँ से निकल पड़ती है। 




कुछ सपने थे अपने भी, जो तूने तोड़ दिए
बाकि तेरे बिना मैंने देखने ही छोड़ दिए। 





बार बार आईने को पोछा मगर अपनी तस्वीर धुंधली थी,
न जाने आइना ही खराब था या अपनी कनखे ही गीली थी। 





टूटते हुआ टारे ने भी अपनी दुआ कुबूल नहीं की
सायद वह हमें टूटने की अहमियत समझाना चाहता था। 





न जाने क्या सोच था कायनात ने हमारे रिश्ते पर
वरना इतनी बड़ी दुनिया में तुमसे ही बात क्यूँ होती। 





क्या तुझे खबर है, की तेरी यादो ने इस दिल को किस-किस  तरह सताया,
कभी अकेले में हसांया……
तो कभी महफ़िलो में रुलाया। 






यह भी पढ़िए:-


0 Comments