जिंदगी की असलियत (TOP) zindagi ki haqeeqat shayari in hindi



zindagi ki haqeeqat shayari
यहाँ आपको हिंदी शायरी के बेहतरीन लफ्ज में, जिदगी पर शायरी लिखी है, लाइफ की कुछ तकलीफ और कुछ लोगो के विचार और व्यवहार duniya ki haqeeqat shayari, zindagi ki haqeeqat shayari in hindi, zindagi ki asliyat shayari,  जिंदगी की असलियत शायरी, यहाँ जिंदगी shayari की बेहतरीन लफ्ज प्रस्तुत किये गए है जिसे आप अपने दोस्तों के साथ फेसबुक और व्हाट्सप्प पर शेयर कर सकते है अपने भावनाओ को shayari के माद्यम से व्यक्त कर सकते है।
हमें आशा है आपको यह zindagi ki hakikat shayari, udas zindagi shayari in hindi जरुर पसंद आएगी अपने विचार अपनी बाते हमे कमेंट जरुर करे।



ZINDAGI KI HAQEEQAT SHAYARI IN HINDI:




जिंदगी (वक़्त) किसी की गुलाम नहीं 
वो किसी के आगे झुकाती है 
सांसे रुक जाए लोगो की 
पर वो रुकती नहीं। 

vakt ki haqeeqat shayari



zindagi kisi ki gulam nahi
vo kisi ke aage jhukati nahi,
saanse ruk jaaye logo ki
par vo rukati nahi.






ज़िन्दगी की सीखा यही
यही हकीकत है सारा
ना तुम किसी के
न कोई तुम्हारा।





Jindagi ki sikh yahi
Yahi hakikat hai sara
Naa tum kisi ke
Naa koi tumhara.





एक नन्ही सी जान ने हाथ फ़ैलाकर
कुछ रुपये क्या मंगर,
मैं अपनी जिंदगी से सभी शिकायते भूल गया।



यह भी पढ़िए:-



Ek nanhi see jaan ne haath failaakar
Kuchh rupaye kya mangar,
Main apanI jindagI se sabhI shikaayate bhool gaya.



इक छोटी सी जिंदगी है ,
उसमे अरमान भी बहुत है ,
लेकिन हमदर्द कोई नहीं यहाँ पर इंसान बहुत है।





Ek chhoti si jindagi hai ,
Usame aramaan bhi bahut hai ,
Lekin hamadard koe nahi yaha par insaan bahut hai.



DUNIYA KI HAQEEQAT SHAYARI:दुनिया की असलियत 

यही जिंदगी की हकीकत है जनाब,
लोग रिश्ते छोड़ देते है,
पर अपनी जिद नहीं।





Yahi zindagi ki haqeeqat hai janaab,
Log rishte chhod dete hai,
Par apanee jid nahi.





जिंदगी की हकीकत को बस इतना जाना है
ये दुनिया एक जंग है
जिसमे तुझे अकेले ही जीत पाना है।





Zindagi ki haqeeqat ko bas itna hi jana hai,
Ye duniyan ek jang hai
Jisame tujhe akele hi jeet pana hai.





अगर लोग चुप रहना सिख ले
तो कुछ सवालों के जवाब
खुद ब खुद मिल जाते है।





Agar log chup rahana sikh le
To kuchh savaalon ke javaab
Khud ba khud mil jaate hai.


उदास जिंदगी UDAS ZINDAGI SHAYARI IN HINDI

कौन खुद को बदलना चाहता है साहब,
किसी को 'प्यार'
किसी को 'नफ़रत' बदल देती है।





Khud ko kaun badalana chaahata hai saahab,
Kisi ko pyaar
Kisi ko nafarat badal deti hai. 




ये बात जिंदगी की हकीकत बता रही है
आज दिल तमासे कर रहा है
और ज़िन्दगी तालियां बजा रही है।





Ye baat zindagi ki haqeeqat bata rahi hai
Aaj dil tamaase kar raha hai
Aur zindagI taliyaan baja rahi hai.





एक ज़माने था
जब पडोसी भी परिवार का हिस्सा थे,
आज तो इक ही परिवार में
कई पड़ोसी हो गए है।





Ek zamaane tha
Jab padosi bhi parivaar ka hissa the,
Aaj to ik hee parivaar mein
Kae padosI ho gaye hai.





इक नाम बदनामी से भी होती है,
और लोग बदनामी के किस्से
कान लगाकर सुनते है।





Ek naam badanaamee se bhi hoti hai,
aur log badanaamee ke kisse
kaan lagaakar sunate hai.



ZINDAGI KI HAQEEQAT SHAYARI HINDI MAIN

पहले लोगो से इक बात सुनी थी,
की वक्त बदलता है,
पर वक्त ने बताया...
लोग भी बदलते है।





Pahale logo se ik baat sunee thee,
Kee vakt badalata hai,
Par vakt ne bataaya...
Log bhi badalate hai.





क्या करे लोगो को तमीज़ सीखने के लिए,
बत्तमिज बनना पड़ता है।





Kya kare logo ko tamij sikhane ke liye
badtamij banana padata hai.





जुबान के कच्चे लोग,
अकसर नज़रों में गिर जाते है।





Jubaan ke kachche log,
Akshar Najaron me gir jaate hai.





जिंदगी में एक वक़्त ऐसा भी आता है दोस्त,
जब आपके पास सब कुछ होता है
बस वक़्त नही।





Zindagi me Ek vakt esha bhi aata hai dost,
Jab apake paas sab kuchh hota hai,
Zas vakt nahi.





अगर आप भी अपने
सही वक़्त का इंतज़ार कर रहे है,
इसका मतलब है
आपको ख़ुद पर भरोशा नही है।





Agar aap bhi apane
Sahee vaqt ka intazaar kar rahe hai,
Isaka matalab hai
Aapako khud par bharosha nahi hai.





अपनी झूठी तारीफ़ सुनना हमे  बिकुल पसंद नही,
क्योंकि यह आपको आगे कुछ भी  करने से रोक देती है।





Apani  jhoothi taarif sunana hame bilkul pasand nahee,
Kyonki yah aapako aage kuchh bhi karane se rok detee hai.



DUNIYA KI HAQEEQAT SHAYARI HINDI ME

ये दुनिया बड़ी ही ज़ालिम है दोस्त,
आप सादगी से झुकोगे
लोग आपको गिरा हुआ समझ लेंगे।





Ye duniya badee hee zaalim hai dost,
Aap saadagee se jhukoge
Log aapako gira hua samajh lenge.





लोग हमें नीचा दिखाने मे
 कोई कसर नही छोड़ते है,
 बस वहाँ हमें ख़ुद को बुरे वक्त में  सम्हालना आना चाहिए।





Log hamen neecha dikhaane mein
Koe kasar nahi chhodate hai,
Bas vahaan hamen khud ko bure vakt me samhaalana aana chaahie.



ZINDAGI KI ASLIYAT SHAYARI IN HINDI

जिंदगी की असलियत जान कर भी परेशान है
अजीब है वो लोग जो खुद से सी अनजान है।





Jindagi ki asliyat jaan kar bhi pareshan hai,
ajeeb hai vo log jo khud se hi anjaan hai.




हमें लगता है हम वक़्त के साथ चल रहे है,
पर सच तो ये है दोस्त,
वक़्त हमे अपने पीछे दौड़ा रहा है।





Hamen lagata hai
Ham vaqt ke saath chal rahe hai,
Par sach to ye hai dost,
Vakt hame apane peechhe dauda raha hai.





हम बहोत बुरे है दोस्त
लोग ऐसा ही कहा करते है,
पर अपने बुरे वक्त में वो लोग
हमें ही यद् किया करते है।





Ham bahot bure hai dost
Log aisa hee kaha karate hai,
Par apane bure vakt mein...
Vo log hame hee yad kiya karate hai





हर वक़्त हम ग़लत नही होते,
बस उस वक़्त साबित करने के लिए
कुछ शब्द नही होते।





Har vakt ham galat nahee hote,
Bas us vakt sabit karane ke liye
Kuchh shabd nahee hote.





जिन्दगी सब्र का नाम है दोस्त,
हमनें हर किसी को यहाँ खुशियों का बस  इंतजार करते देखा है।





Jindagee sabr ka naam hai dost,
Hamane har kisee ko yahan khushiyon ka bas intajaar karate dekha hai.





चलो थोड़ा सुकून से रहा जाय,
जो दिल दुखाते थे उनसे थोड़ा दूर रहा जाय।





Chalo thoda sukoon se raha jaay,
Zo dil dukhate the unase thoda door raha jaay.





दुःख को चुपके-चुपके सहने वाले लोग,
अक्सर दुसरों के सामने ज्यादा ख़ुसी बयाँ करते है।





Dukh ko chupake-chupake sahane vale log,
Akasar dusaron ke samane jyada khusi bayan karate hai.



ADHURI ZINDAGI SHAYARI IN HINDI

हम भी परवाह करते है
पर बोलते है
क्योकि हम रिश्ते निभाते है
तौलते नही।





Hum bhi parvah karte hai,
Par bolate nahi.
Kyoki hum rishte nibhate hai,
Taulate nahi.





क्या फर्क पड़ता है
हम कैसे है,
बस थोड़ी किस्मत रूठी है, वक़्त रूठा है,
बाकी हम वैसे ही है।





Kyaa fark pdata hai,
Ham kaise hai,
Bas thodi kismat ruthi hai, vakt rutha hai,
Baaki ham vaise hi hai.





कैसा होता अग़र हम भी कुछ जादू कर पाते,
बस कुछ अपने रूठे को मना पाते,
नही चाहिए हमे कुछ भी उनसे,
पर काश सही बात उन्हें समझ पाते।


इसे भी पढ़िए:-